नई दिल्ली । महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तानों में एक माना जाता है। उन्होंने पिछले साल इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लिया था। वे आईपीएल में फिलहाल चेन्नई सुपरकिंग्स की कप्तानी कर रहे हैं। धोनी को आमतौर पर शांत खिलाड़ी माना जाता है। वे युवराज सिंह और हरभजन सिंह की तरह किसी से ज्यादा मजाक नहीं करते हैं। धोनी खुद को इतना अलग रखते थे कि वे किसी का फोन भी नहीं उठाते थे। इसका खुलासा टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने एक इंटरव्यू में किया था। सहवाग ने इंटरव्यू में धोनी और राहुल द्रविड़ के बारे में खुलासा किया था। सबसे पहले इसके बारे में वीवीएस लक्ष्मण कहा था। सहवाग ने उस बात पर मुहर लगाते हुए कहा था, ‘‘एक बार ऐसा हुआ कि बीसीसीआई सचिव ने धोनी को फोन किया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। जब अगली बार सचिव उनसे मिले तो उन्होंने एक विशेष फोन धोनी को दिया और कहा कि जब यह फोन बजेगा तो तुम्हें ये फोन उठाना ही होगा।’’ सहवाग ने उस सचिव का नाम नहीं बताया। सहवाग ने आगे बताया, ‘‘धोनी कप्तान थे और उन्हें बोर्ड की बैठकों में शामिल होना होता था। इसके लिए उनका फोन उठाना जरूरी था। तब से धोनी के पास बीसीसीआई द्वारा दिया गया फोन था और मैं नहीं जानता कि यह अब भी उनके पास है या नहीं। लेकिन हां, उनका एक निजी नंबर भी है।’’ सहवाग ने इंटरव्यू के दौरान बताया था कि एक बार धोनी को कप्तान राहुल द्रविड़ से डांट भी सुननी पड़ी थी। सहवाग ने उस घटना के बारे में बताते हुए कहा था, ‘‘मैंने राहुल द्रविड़ को गुस्से में देखा है। जब हम पाकिस्तान में थे और धोनी नए-नए आए थे। धोनी ने एक शॉट खेला और प्वाइंट पर पकड़े गए। इस पर द्रविड़ धोनी से बहुत नाराज थे। उन्होंने कहा था कि क्या इस तरह से तुम खेलते हो? तुम्हें खेल खत्म करना चाहिए। जब धोनी अगली बार बल्लेबाजी करने आए, तो मैं देख रहा था कि वह ज्यादा शॉट नहीं मार रहा था। मैंने जाकर उससे पूछा कि क्या गलत था। उसने कहा कि वह कप्तान से दोबारा गालियां नहीं खाना चाहते हैं। धोनी ने कहा कि मैं शांति मैच खत्म करूंगा और वापस जाऊंगा।’’