भारत के हेड कोच विजय शर्मा की सलाह पर उन्होंने यह फैसला किया है।  टोक्यो ओलंपिक में भारत को सिल्वर मेडल दिलाने वाली वेटलिफ्टर मीराबाई चानू वर्ल्ड चैंपियनशिप और कॉमनवेल्थ सीनियर चैंपियनशिप में शामिल नहीं होंगी। उन्होंने भारत के हेड कोच विजय शर्मा की सलाह पर इन प्रतियागिताओं में शामिल होने का फैसला किया है। ये दोनों चैंपियनशिप सात दिसंबर से 17 दिसंबर के बीच तास्केन्त और उजबेकिस्तान में एक साथ आयोजित होंगी। चानू ने 49 किलोग्राम वर्ग में पदक जीता था।

विजय शर्मा का कहना है कि इन दोनों प्रतियोगिताओं में खिलाड़ियों को शामिल कराने का उद्देश्य यही है कि वो अगले साल के कॉमनवेल्थ खेलों के लिए क्वालीफाई कर जाएं। हमने मीरा का नाम पहले भेजा था, लेकिन अभी उनका प्रदर्शन ठीक नहीं है। हम उनकी स्नैच तकनीकि पर काम कर रहे हैं। मीरा कॉमनवेल्थ के लिए पहले ही योग्य हैं, क्योंकि उन्होंने ओलंपिक में मेडल जीता था और मौजूदा समय में वो रैंकिग में पहले पायदान पर हैं।

कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप का आयोजन पहले सिंगापुर में 20 से 24 अक्तूबर के बीच होना था, लेकिन कोरोना की वजह से इसे रद्द कर दिया गया। अब यह प्रतियोगिता वर्ल्ड चैंपियनशिप के साथ अगले महीने आयोजित होगी।

कॉमनवेल्थ सीनियर चैंपियनशिप में भारत के 20 खिलाड़ी शामिल होंगे। यूथ ओलंपिक में भारत को गोल्ड मेडल दिलाने वाले जेरेमी लालरीनुंगा से एक बार फिर काफी उम्मीदें होंगी। 49 किलोग्राम वर्ग में भारत को 119 किलो भार उठाकर विश्व रिकॉर्ड बनाने वाली चानू को स्नैच में चीनी खिलाड़ी के सामने संघर्ष करना पड़ा था। उनका संतुलन सही होने के कारण उनके दाहिने कंधे और कमर में असर पड़ रहा था। उन्होंने डॉ. अरोन हॉर्सचिंग से भी बात की है, जिन्होंने पहले उन्हें सिल्वर मेडल जीतने में मदद की थी। हालांकि वो फिर से ट्रेनिंग के लिए अमेरिका नहीं जा रही हैं।